National Youth Day 2022: जाने स्वामी विवेकानंद की जयंती अर्थात् राष्ट्रिय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है?

National Youth Day 2022: जाने स्वामी विवेकानंद की जयंती अर्थात् राष्ट्रिय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है?

National Youth Day 2022: ‘उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक मंजिल प्राप्त न हो जाए’ का संदेश देने वाले युवाओं के प्रेरणास्रोत, समाज सुधारक युवा युग-पुरुष ‘स्वामी विवेकानंद’ (Swami Vivekananda) का आज जन्मदिन है. 12 जनवरी 1863 को उनका जन्म कलकत्ता (वर्तमान में कोलकाता) में हुआ था. हर साल इसी दिन (12 जनवरी) को राष्ट्रीय युवा दिवस (National Youth Day 2022) के रूप में मनाया जाता है. स्वामी विवेकानंद अपने ओजपूर्ण और बेबाक भाषणों के कारण काफी लोकप्रिय हुए, खासकर युवाओं के बीच. यही कारण है कि उनके जन्मदिन को पूरा राष्ट्र ‘युवा दिवस’ के रूप में मनाता है. स्वामी विवेकानंद का नाम इतिहास में एक ऐसे विद्वान के रूप में दर्ज है, जिन्होंने मानवता की सेवा को अपना सर्वोपरि धर्म माना.

उन्होंने मानवता की सेवा एवं परोपकार के लिए 1897 में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की. इस मिशन का नाम विवेकानंद ने अपने गुरु रामकृष्ण परमहंस के नाम पर रखा. स्वामी विवेकानंद का रोम रोम राष्ट्रभक्ति से ओत प्रोत था. स्वामी जी मानवता की सेवा एवं परोपकार को ही भगवान की सच्ची पूजा मानते थे. स्वामी विवेकानंद को यु्वाओं से बड़ी उम्मीदें थीं. उन्होंने युवाओं को धैर्य, व्यवहारों में शुद्ध‍ता रखने, आपस में न लड़ने, पक्षपात न करने और हमेशा संघर्षरत रहने का संदेश दिया. आज भी वे कई युवाओं के लिए प्रेरणा के स्त्रोत बने हुए हैं. आज भी स्वामी विवेकानंद को उनके विचारों और आदर्शों के कारण जाना जाता है.

National Youth Day 2022

राष्ट्रिय युवा दिवस 2022 थीम (National youth day theme):

साल 2022 नैशनल यूथ डे की थीम है “It’s all in the mind.”

2021 की थीम थी YUVAAH–उत्साह नए भारत का.

2020 की थीम थी वैश्विक कार्य के लिए युवाओं की भागीदारी.

2019 की थीम थी ‘राष्ट्र निर्माण में युवा शक्ति का इस्तेमाल’.

2018 की थीम थी ‘संकल्प से सिद्धि तक’.

National Youth Day कैसे मनाया जाता है?

नैशनल यूथ डे के मौके पर पर्यटन मंत्रालय व रामाकृष्ण मठ, रामाकृष्ण मिशन द्वारा कई कार्यक्रम आयोजित किये जाते है. इसके अलावा स्कूल व कॉलेजों में भी कई तरह के कार्यक्रम का आयोजन होता है. स्वामी विवेकानंद पर भाषण प्रतियोगिता, गीत, निबंध लेखन आदि का आयोजन किया जाता है.

National Youth Day मनाने का तात्पर्य:

इस दिन रामकृष्ण मठ, रामकृष्ण मिशन के केंद्र और उनकी शाखाओं में बहुत ही उत्साह के साथ कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. मंगल आरती, भक्ति के गीत, धार्मिक भाषण, संध्या आरती वगैरा इस मौके पर किए जाते हैं. वहीं स्कूलों और कॉलेजों में भाषण, प्रतियोगिता जैसे विभिन्न कार्यक्रमों और समारोहों का आयोजन किया जाता है. इसका उद्देश्य भारत के युवाओं में प्रतिभा को बढ़ाने में मदद करना है और उन्हें यह व्यक्त करने के लिए एक मंच प्रदान करना है कि वे विभिन्न मुद्दों के बारे में कैसा और क्या महसूस करते हैं. राष्ट्रीय युवा दिवस के उत्सव में विभिन्न सम्मेलनों और कार्यक्रमों का आयोजन होता है जिसमें भारत के युवा भाग लेते हैं और विचारों का आदान-प्रदान करते हैं और स्वामी विवेकानंद के जीवन और कार्यों का जश्न मनाते हैं.

स्वामी विवेकानंद जी के कुछ अनमोल विचार:

👉🏾उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो। तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो. तुम तत्व नहीं हो, तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो.


👉🏾मुझे गर्व है कि मैं एक ऐसे धर्म से हूं, जिसने दुनिया को सहनशीलता और सार्वभौमिक स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है. हम सिर्फ सार्वभौमिक सहनशीलता में ही विश्वास नहीं रखते, बल्कि हम विश्व के सभी धर्मों को सत्य के रूप में ‘स्वीकार करते हैं.


👉🏾यदि परिस्थितियों पर आपकी मजबूत पकड़ है तो जहर उगलने वाला भी आपका कुछ नही बिगाड़ सकता.


👉🏾हर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति.


👉🏾पवित्रता, धैर्य और दृढ़ता ये तीनों सफलता के लिए आवश्यक है लेकिन इन सबसे ऊपर प्यार है.

👉🏾यह मत भूलो कि बुरे विचार और बुरे कार्य तुम्हें पतन की और ले जाते हैं, इसी तरह अच्छे कर्म व अच्छे विचार लाखों देवदूतों की तरह अनंतकाल तक तुम्हारी रक्षा के लिए तत्पर हैं .


👉🏾संभव की सीमा जानने का एक ही तरीका है, असंभव से भी आगे निकल जाना.


👉🏾आप जोखिम लेने से भयभीत न हो, यदि आप जीतते हैं, तो आप नेतृत्व करते है, और यदि हारते है , तो आप दुसरो का मार्दर्शन कर सकते हैं – स्वामी विवेकानंद


👉🏾शक्ति जीवन है तो निर्बलता मृत्यु है. विस्तार जीवन है तो संकुचन मृत्यु है. प्रेम जीवन है तो द्वेष मृत्यु है – स्वामी विवेकानंद

राष्ट्रिय युवा दिवस के अवसर पर

दोस्तो हम सभी को स्वामी जी के बताए रास्तों को अनुसरण करना है. क्योंकि मात्र एक वैही हो जो युआओ का हमेशा से हितैशी रहे हैं. हम सभी को उनके जयंती के शुभ अवसर पर यह प्रण लेना है की स्वामी जी को आदर्श मानकर अपना सब कुछ अपने राष्ट्र के नाम करते है. अर्थात हम युवा है, अपने देश का भविष्य हम ही है. अपने राष्ट्र पे होने वाले वार के सामने हम कभी भी न टूटने वाले दीवार है.

आप सभी को “कहानी तक” टीम के तरफ़ से राष्ट्रिय युवा दिवस 2022 की ढेर सारी शुभकामनाएं 💐💐