पैगंबर से जुड़े विवाद के बीच कुवैत ने मांगा भारत से गाय की गोबर

पैगंबर से जुड़े विवाद के बीच कुवैत ने मांगा भारत से गाय की गोबर

कुवैत के कृषि वैज्ञानिकों ने खजूर की खेती में गाय के गोबर को काफी फायदेमंद पाया है. इसके बाद कुवैत ने भारत से गाय का गोबर मंगाने का फैसला किया है. इससे पहले कुवैत ने ग्लोबल फूड क्राइसिस (Global Food Crisis) के बीच भारत से गेहूं भेजने का आग्रह किया था.

खाड़ी देश कुवैत (Kuwait) ने पैगंबर मोहम्मद विवाद (Prophet Mohammad Row) के बीच अब गेहूं (Wheat) के बाद भारत को गाय के गोबर (Cow Dung) का बड़ा ऑर्डर दिया है. कुवैत में वैज्ञानिकों ने खजूर की खेती में गाय के गोबर का इस्तेमाल किया और पाया कि इससे उपज बढ़ जाती है. इसके बाद कुवैत ने भारत से गाय का गोबर मंगाने का फैसला किया. भारत को अब तक गोबर के लिए मिले सबसे बड़े विदेशी ऑर्डर की खेप राजस्थान (Rajasthan) और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से भेजी जा रही है.

पहली बार मिला गोबर का ऐसा ऑर्डर

Unkonwn source

उन्होंने बताया कि कुवैत को गाय के गोबर की पहली खेप आज 15 जून को भेजी जा रही है. इसे राजस्थान के कनकपुरा रेलवे स्टेशन से मुंबई भेजा जा रहा है. वहां से गोबर को जहाज के जरिए कुवैत ले जाया जाएगा. इस खेप को कस्टम विभाग की निगरानी में जयपुर के टोंक रोड स्थित श्री पिंजरापोल गोशाला में सनराइज ऑर्गेनिक पार्क में पैक किया गया है. इस पहली खेप में कुवैत को 192 मीट्रिक टन गोबर की आपूर्ति की जा रही है. पहली बार भारत को किसी देश से गोबर के लिए इतना बड़ा ऑर्डर मिला है.

गोबर के इस्तेमाल से बढ़ा खजूर का उत्पादन

कुवैत में कृषि वैज्ञानिकों ने एक रिसर्च में पाया कि गाय के गोबर को पाउडर के रूप में प्रयोग करने से खजूर की फसल बढ़ रही है. इसके इस्तेमाल से फल के आकार और उत्पादन की मात्रा दोनों में अच्छी बढ़ोतरी हुई. इसके बाद कुवैत की कंपनी लैमोर ने गाय के गोबर का एक बड़ा ऑर्डर भारत को दिया.

आपको बता दें कि भारत में करीब 30 करोड़ मवेशी हैं. इनसे हर रोज करीब 30 लाख टन गोबर का उत्पादन होता है. भारत में गोबर का मुख्य इस्तेमाल उपला बनाकर ईंधन के रूप में किया जाता है. हालांकि ब्रिटेन और चीन समेत कई देशों में गोबर से बिजली व गोबर गैस का उत्पादन किया जाता है.

गोबर से पहले गेहूं भी मांग चुका है कुवैत

पूर्व कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री एवं सांसद राधा मोहन सिंह (Radha Mohan Singh) मंगलवार को कानपुर के चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (CSA) के कृषि विज्ञान केंद्र में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे. उन्होंने दावा किया कि कुवैत के कृषि वैज्ञानिकों ने खजूर की खेती में गाय के गोबर को काफी फायदेमंद पाया है. इसके बाद कुवैत ने भारत से गाय का गोबर मंगाने का फैसला किया है. इससे पहले कुवैत ने ग्लोबल फूड क्राइसिस (Global Food Crisis) के बीच भारत से गेहूं भेजने का आग्रह किया था.