जानिए मां दुर्गा की 108 नाम हिंदी में

जानिए मां दुर्गा की 108 नाम हिंदी में

ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी। दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

मां दुर्गा को अनेकों नामों से जाना जाता है लेकिन इस पोस्ट में आप सभी को माता के 108 नामों का उल्लेख मिलेगा। माता के अनेक नामों का मतलब भी अनेक है वैसे तो माता का 9 दिन अलग-अलग रूपों की पूजा अर्चना करते हैं , माता का हिंदू मान्यता के अनुसार अलग-अलग प्रकार से देश के सभी जगहों पर पूजा अर्चना किया जाता है।

ज्योतिषियों का मानना है कि बहुत से लोगों को अपने निजी कामों के लेकर समय नहीं मिल पाने के कारण माता के पूजा अर्चना में शामिल नहीं हो पाते है वे लोग माता के 108 नामों का रोज सुबह जाप करें तथा माता का ध्यान लगाएं तो उन सभी का भी मनोकामना पूर्ण होगी तथा कष्ट क्लेश दूर होगा।

माता को खुश करने के लिए माता की अलग-अलग रूपों की प्रतिमा बनाकर 9 दिनों तक पूजा की जाती है बहुत सारे माता के भक्तों माता की 9 दिनों तक लगातार उपासना करते हैं जिससे उन सभी का मनोकामना पूर्ण होती है दुर्गा पूजा अर्थात दशहरा हिंदू धर्म तथा संस्कृति की धरोहर है।

मां दुर्गा की 108 नाम

भवानी , आर्या , भवमोचनी , भवप्रीता , साध्वी , सती , दुर्गा , जया , आधा , शूलधारिणी , त्रिनेत्रा , चित्रा , चंद्रघंटा , पिनाकधारिणी , बुद्धि , महातपा , अहंकारा , चितरूपा , सर्वमंत्रमई , चिता , चीती , सत्ता , सत्यानंदसावरूपिणी , अनंता , भाविनी , भव्या , अभत्या , सदागती , शंभीवी , देवमाता , चिंता , रत्नप्रियां , सर्वविधा , दक्षकन्या , दक्षयज्ञबिनाशनी , पाटला , अनेकवर्ण , पतलावती , अपर्णा , अमेयबिक्रमा , पत्तम्बरपरिधाना , कलमंजरीरंजनी , सुंदरी , कुर्रा , सुरसुंदरी , वनदुर्गा , मातंगी , ब्राहि , मतंगमुनिपूजिता , महेश्वरी , एंद्री , कौमारी , वैष्णवी , चामुंडा , लक्ष्मी , वाराही , पुरप्रकृति , बिमला , उत्कर्षिनी , क्रिया , ज्ञाना , नित्या , बुद्धा , बहुला , बहुलप्रिया , सर्ववाहनवाहन , महिषासुरमर्दिनी , मधुकैटमहंत्री , निशुंभशुंभहननी , चंडमुंडविनाशिनी , सर्वशुरविनाश , सर्वदानवाघटनी , सर्वशास्त्रमई , सत्या , सर्वास्त्रधारिणी , अनेकशास्त्रहस्ता , अनेकशास्त्रधारिणी , कुमारी , एककन्या , कैशोरी , युवती , यति , अप्रौढा ,प्रौढा , बलप्रदा , ब्रीघमाता , महादेवी , मुक्तकेशी , घोररूपा , महाबला , अग्निज्वाला , रौद्रमुखी , कालरात्रि , तपस्विनी , नारायणी , भद्रकाली , विष्णुमाया , जलोदरी , शिवदुति , कराली , अनंता , परमेश्वरी , कात्यायनी , सावित्री , प्रत्यक्षा तथा ब्रह्वादिनी।