कौन हैं पंजाब के नए मुख्यमंत्री , चरणजीत सिंह चन्नी ?

कौन हैं पंजाब के नए मुख्यमंत्री , चरणजीत सिंह चन्नी ?

कैप्टन अमरिंदर सिंह के CM पद से इस्तीफा के बाद से कांग्रेस में हल-चल मच गई। अब कौन नया CM बनेगा , सबको उसी का इंतजार था तबतक कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष के द्वारा ट्वीट कर चरणजीत सिंह चन्नी को CM घोषित किया गया। आखिर कौन है चरणजीत सिंह चन्नी और उन्ही को क्यों CM चुना गया तथा चन्नी जी के जीवन के बारे में इस पोस्ट की मदद से जानेंगे।

परिचय

नाम चरणजीत सिंह चन्नी। पिता। हरस सिंह। जन्म। 01 मार्च 1963। जन्म स्थान। चमकौर साहिब , पंजाब। धर्म। सिख। समुदाय। सिख दलित (रामदासिया)। पेशा। राजनीतिज्ञ। कार्यभार। विधानसभा ,मुख्यमंत्री(कार्यरत)। संतान। नवजीत सिंह , रिदमजीत सिंह। शिक्षा। LLB , MBA (पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी)

चरणजीत सिंह चन्नी का जन्म एक सिख धर्म के दलित समुदाय में पंजाब के चमकौर साहिब में सन् 1 मार्च 1963 को हुआ। उनके पिता का नाम हरसा सिंह तथा पत्नी का नाम कमलजीत कौर है। उनके दो पुत्र नवजीत सिंह और रिदमजीत सिंह है। वे बचपन से ही मेघावी रहे है। अपना पुरा जीवन राजनीति में दिए।

शिक्षा

चरणजीत सिंह चन्नी एक दलित परिवार से थे तो स्कूलिंग शिक्षा गांव से ही प्राप्त किए। उसके बाद उन्होंने स्नातक(BA) पंजाब यूनिवर्सिटी से तथा MBA एवं LLB पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी , जलंधर से पूरी की। चन्नी साहब LLB की डिग्री करते हुए वकालत भी किए। बचपन से मेघावी रहे तथा दलित होने से इनको हमेशा सरकार से छात्रवृति एवं प्रोत्साहन मिलती रही।

राजनीतिक जीवन

चन्नी जी को बचपन से ही राजनीति में दिलचस्बी रही। वे हमेशा समाज सेवा करने में विश्वास रखते थे इसीलिए उन्होंने राजनीति से जुड़कर सेवा करने का निर्णय लिए। सर्वप्रथम उन्होंने खरड़ नगर परिषद् पार्षद का चुनाव लड़े और जीतकर अध्यक्ष बने, लगातार दो बार रहे

इसके बाद उन्होंने चमकौर साहिब विधान सभा से चुनाव लड़ने का मन बनाई। उनको कांग्रेस पार्टी से लोकप्रियता के कारण टिकट मिलने वाली थी , लेकिन नहीं मिल पाई । फिर भी वे नहीं रुके उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और भरी वोटो से जीत दर्ज की , उसके बाद वे आकली दल में शामिल हुए , कुछ समय बाद दल को छोड़कर कांग्रेस पार्टी को ज्वाइन कर लिए।

लगातार वे तीन बार विधायक रहे , सबसे बड़ी उपलब्धि उनको 10 मार्च 2017 को कैप्टन अमरिंदर सिंह के सरकार में मिली कैबिनेट मिनिस्टर बनाए गए जिसमे उनको शिक्षा मंत्री और प्रौद्योगिक संस्थान का कार्यभार मिला। सबसे बड़ी सफलता तब हाथ लगा जब उनको पंजाब के मुख्यमंत्री के लिए 19 नवंबर 2021 चुना गया तथा इनका सपथ ग्रहण 20 नवम्बर 2021 को हुआ।

राजनैतिक जीवन में उतार-चढ़ाव

सभी के जीवन में उतार-चढ़ाव होती रहती है उसी प्रकार चन्नी जी के भी राजनेतिक जीवन में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिली। काफी बार वे विवादो के घेरे में आए उनपर बहुत सारे आरोप जैसे वे जब शिक्षा मंत्री थे तो किसी प्रशासनिक अधिकारी के स्थांतरण का सिफारिस में , एक महिला अधिकारी कविता सिंह को अश्लील संदेश भेजने , कड़क ब्यान इत्यादि में आरोप लगते रहे है।