विक्रम साराभाई की जीवनी !! Biography of Vikram sarabhai in Hindi

विक्रम साराभाई की जीवनी !! Biography of Vikram sarabhai in Hindi
पूरा नाम (Name)विक्रम अम्बालाल साराभाई (Vikram Sarabhai)
जन्म (Birthday)12 अगस्त 1919
जन्मस्थान (Birthplace)अहमदाबाद
माता (Mother Name)सरला देवी
पिता (Father Name)अम्बालाल साराभाई

 विक्रम अंबालाल साराभाई भारत के प्रमुख वैज्ञानिक थे। इन्होंने ८६ वैज्ञानिक शोध पत्र लिखे एवं ४० संस्थान खोले। इनको विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन १९६६ में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। डॉ. विक्रम साराभाई के नाम को भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम से अलग नहीं किया जा सकता। यह जगप्रसिद्ध है कि वह विक्रम साराभाई ही थे जिन्होंने अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में भारत को अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र पर स्थान दिलाया। लेकिन इसके साथ-साथ उन्होंने अन्य क्षेत्रों जैसे वस्त्र, भेषज, आणविक ऊर्जा, इलेक्ट्रानिक्स और अन्य अनेक क्षेत्रों में भी बराबर का योगदान किया।

प्रारंभिक जीवन :

        विक्रम साराभाई का जन्म 12 अगस्त 1919 को गुजरात, भारत के अहमदाबाद शहर में हुआ था. साराभाई के परीवार का उनके जीवन में बहोत महत्त्व था और वे एक अमीर व्यापारी परीवार से सम्बन्ध रखते थे. उनके पिता अम्बालाल साराभाई एक समृद्ध उद्योगपति थे जिन्होंने गुजरात में कई मिल्स अपने नाम कर रखी थी. विक्रम साराभाई, अम्बालाल और सरला देवी की 8 संतानो में से एक थे. अपने 8 बच्चों को पढाने के लिए सरला देवी ने मोंटेसरी प्रथाओ के अनुसार एक प्राइवेट स्कूल की स्थापना की, जिसे मारिया मोंटेसरी ने प्रतिपादित किया था, उनकी इस स्कूल ने बाद में काफी ख्याति प्राप्त की थी.

        साराभाई का परीवार भारतीय स्वतंत्रता अभियान में शामिल होने के कारण बहोत से स्वतंत्रता सेनानी जैसे महात्मा गांधी, मोतीलाल नेहरू, रबीन्द्रनाथ टैगोर और जवाहरलाल नेहरू अक्सर साराभाई के घर आते-जाते रहते थे. इन सभी सेनानियो का उस समय युवा विक्रम साराभाई के जीवन पर काफी प्रभाव पडा और उन्होंने साराभाई के व्यक्तिगत जीवन के विकास में काफी सहायता भी की.

        सितम्बर 1942 को विक्रम साराभाई का विवाह प्रसिद्ध क्लासिकल डांसर मृणालिनी साराभाई से हुआ. उनका वैवाहिक समारोह चेन्नई में आयोजित किया गया था जिसमे विक्रम के परीवार से कोई उपस्थित नही था, क्योकि उस समय महात्मा गांधी का भारत छोडो आंदोलन चरम पर था, जिसमे विक्रम का परीवार भी शामिल था. विक्रम और मृणालिनी को दो बच्चे हुवे- कार्तिकेय साराभाई और मल्लिका साराभाई. मल्लिका साराभाई अपनेआप में ही एक प्रसिद्ध डांसर है जिन्हें पालमे डी’ओरे पुरस्कार से सम्मानित कीया गया.

डॉ. साराभाई के व्यक्तित्व का सर्वाधिक उल्लेखनीय पहलू उनकी रूचि की सीमा और विस्तार तथा ऐसे तौर-तरीके थे जिनमें उन्होंने अपने विचारों को संस्थाओं में परिवर्तित किया। सृजनशील वैज्ञानिक, सफल और दूरदर्शी उद्योगपति, उच्च कोटि के प्रवर्तक, महान संस्था निर्माता, अलग किस्म के शिक्षाविद, कला पारखी, सामाजिक परिवर्तन के ठेकेदार, अग्रणी प्रबंध प्रशिक्षक आदि जैसी अनेक विशेषताएं उनके व्यक्तित्व में समाहित थीं।

        उनकी सबसे महत्त्वपूर्ण विशेषता यह थी कि वे एक ऐसे उच्च कोटि के इन्सान थे जिसके मन में दूसरों के प्रति असाधारण सहानुभूति थी। वह एक ऐसे व्यक्ति थे कि जो भी उनके संपर्क में आता, उनसे प्रभावित हुए बिना न रहता। वे जिनके साथ भी बातचीत करते, उनके साथ फौरी तौर पर व्यक्तिगत सौहार्द स्थापित कर लेते थे। ऐसा इसलिए संभव हो पाता था क्योंकि वे लोगों के हृदय में अपने लिए आदर और विश्वास की जगह बना लेते थे और उन पर अपनी ईमानदारी की छाप छोड़ जाते थे।

        विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र इसरो का सबसे बड़ा एवं सर्वाधिक महत्वपूर्ण केंद्र है। यह तिरुवनंतपुरम में स्थित है। यहाँ पर रॉकेट, प्रक्षेपण यान एवं कृत्रिम उपग्रहों का निर्माण एवं उनसे सम्बंधित तकनीकी का विकास किया जाता है। केंद्र की शुरुआत थम्बा भूमध्यरेखीय रॉकेट प्रक्षेपण केंद्र के तौर पर १९६२ में हुई थी। केंद्र का पुनः नामकरण भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक डॉ॰ विक्रम साराभाई के सम्मान में किया गया।

डॉक्टर विक्रम साराभाई द्वारा की गई खोज और प्रयोग (Dr Vikram Sarabhai Inventions)

विक्रम साराभाई द्वारा की गई कुछ खोज एवं उनके प्रयोग के बारे में जानकारी इस प्रकार हैं –

  • साराभाई के मार्गदर्शन में पहला कॉस्मिक किरणों का निरीक्षण करने वाले नए दूरबीनो का निर्माण किया गया. वे दूरबीन कुछ इस प्रकार के थे, जिनसे गुलमर्ग जैसी विभिन्न स्थानों में से निकलने वाली कॉस्मिक विकर्ण की तीव्रता और उसके निरंतर बदलते हुए प्रभावों के बारे में पूरी और गहन जांच की जा सकती थी. जैसे-जैसे वे कॉस्मिक किरणों पर खोज करते रहे वैसे वैसे उनको और भी निरीक्षण करने के लिए कई तरह के औजारों की आवश्यकता होने लगी. विक्रम साराभाई ने अपने द्वारा बनाए गए छात्रों के समूह के साथ मिलकर कॉस्मिक विकिरण और गुलमर्ग जैसे विभिन्न स्थानों में आउटर दूरबीन का उपयोग करके कॉस्मिक किरणों के निरंतर बदलते रुझान का अवलोकन किया, और किरण की तीव्रता के लिए बड़ी संख्या में कॉस्मिक रे दूरबीन का निर्माण करना और उनकी स्थापना करना शुरु कर दिया. उन्होंने यह पूरी प्रक्रिया को अहमदाबाद से अलग त्रिवेंद्रम में अंजाम दिया.
  • भारत में कोई भी रॉकेट लॉन्चिंग स्टेशन नहीं था, डॉक्टर होमी भव एक ऐसी शख्सियत जिसे विज्ञान में होने वाले प्रत्येक परमाणु विज्ञान कार्यक्रम का जनक माना जाता है, उनके सहयोग से अपना पूर्ण समर्थन देते हुए डॉक्टर साराभाई ने भारत में पहला रॉकेट लॉन्च इंप्रेशन स्थापित किया. यह संस्थान अरब सागर के तट के पास थुम्बा, तिरुवंतपुरम में स्थापित किया गया था.
  • उन्होंने रुसी स्पूतनिक लांच के बाद भारत जैसे विकासशील देश में अंतरिक्ष की महत्वता को समझाया और सरकार को इस बात पर राजी किया कि भारत देश में भी अंतरिक्ष कार्यक्रम के महत्व पर जोर दिया जाना चाहिए. उसके बाद भारत में भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन की शुरुआत की गई. और इसकी घोषणा साल 1969 के स्वतंत्रता दिवस के दिन की गई. इस संगठन को शुरू करने में सबसे अधिक महत्वपूर्ण योगदान डॉक्टर साराभाई का था, जिन्होंने ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान’ नामक संगठन यानी इसरो (ISRO) की स्थापना स्वयं की थी.
  • नासा के साथ भी साराभाई के अच्छे तालमेल थे, जिनसे बातचीत करके और उनके साथ मिलकर उन्होंने सन 1975 से लेकर 1976 के दौरान सेटेलाइट सफल टेलिविजन एक्सपेरिमेंट लांच किया. बाद में उनके द्वारा एक अद्भुत भारतीय उपग्रह निर्माण की परियोजना भी शुरू कर दी गई. जिसके परिणाम स्वरुप पहला भारतीय उपग्रह आर्यभट्ट सन 1975 में एक रुसी कॉस्मोडरोम से कक्षा में रखा गया.

डॉक्टर विक्रम साराभाई का योगदान (Dr Vikram Sarabhai Contribution)

डॉ साराभाई के नेतृत्व में अधिकांश महत्वपूर्ण संस्थानों की स्थापना भी की गयी जो निम्नलिखित है :-

भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल), अहमदाबाद
• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट (आईआईएम), अहमदाबाद
• कम्यूनिटी साइंस सेंटर, अहमदाबाद
• दर्पण अकाडेमी फ़ॉर परफ़ार्मिंग आर्ट्स, अहमदाबाद (अपनी पत्नी के साथ मिल कर)
• विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र, तिरुवनंतपुरम
• स्पेस अप्लीकेशन्स सेंटर, अहमदाबाद (यह संस्थान साराभाई द्वारा स्थापित छह संस्थानों/केंद्रों के विलय के बाद अस्तित्व में आया)
• फ़ास्टर ब्रीडर टेस्ट रिएक्टर (एफ़बीटीआर), कल्पकम
• वेरिएबल एनर्जी साइक्लोट्रॉन प्रॉजेक्ट, कोलकाता
• इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड(ईसीआईएल), हैदराबाद
• यूरेनियम कार्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड(यूसीआईएल),जादूगुडा, बिहार

भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम :

        भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की स्थापना उनकी महान उपलब्धियों में एक थी। रूसी स्पुतनिक के प्रमोचन के बाद उन्होंने भारत जैसे विकासशील देश के लिए अंतरिक्ष कार्यक्रम के महत्व के बारे में सरकार को राज़ी किया। डॉ. साराभाई ने अपने उद्धरण में अंतरिक्ष कार्यक्रम के महत्व पर ज़ोर दिया. “ऐसे कुछ लोग हैं जो विकासशील राष्ट्रों में अंतरिक्ष गतिविधियों की प्रासंगिकता पर सवाल उठाते हैं। हमारे सामने उद्देश्य की कोई अस्पष्टता नहीं है।

        हम चंद्रमा या ग्रहों की गवेषणा या मानव सहित अंतरिक्ष-उड़ानों में आर्थिक रूप से उन्नत राष्ट्रों के साथ प्रतिस्पर्धा की कोई कल्पना नहीं कर रहें हैं।” “लेकिन हम आश्वस्त हैं कि अगर हमें राष्ट्रीय स्तर पर, और राष्ट्रों के समुदाय में कोई सार्थक भूमिका निभानी है, तो हमें मानव और समाज की वास्तविक समस्याओं के लिए उन्नत प्रौद्योगिकियों को लागू करने में किसी से पीछे नहीं रहना चाहिए।”

        विज्ञान के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों को देखते हुए 1962 में उन्हें ‘शांतिस्वरूप भटनागर पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया | भारत सरकार ने उन्हें 1966 में ‘पद्मभूषण’ से अलंकृत किया | इन सबके अतिरिक्त इंडियन अकादमी ऑफ साइंसेज, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंसेस ऑफ इंडिया, फिजिकल सोसाइटी, लन्दन और कैम्ब्रिज फिलोसाफिकल सोसाइटी ने उन्हें अपना ‘फैलो’ बनाकर सम्मानित किया |

        डॉ. साराभाई जब वापस अपने स्वतंत्र भारत में आए तो उन्होंने उन सुविधो को लाने या उसकी पूर्ति करना चाहा था जो अभी लोगो के बीच नहीं था, इसके लिए उन्होंने अपने परिवार द्वारा चलाए जा रहे समाजसेवी संस्थानों को चलाना आरम्भ कर दिया एवं Nov. 11, 1947 को Karmkshetra Educational Foundation और The Ahmadabad Education Society की मदद से भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला की स्थापना की एवं अपने संस्थान में नए चीजो की खोज आरम्भ कर दिया और इस संस्थान में इन्होने Cosmic Ray और Properties of the upper layer of atmosphere के बारे में अध्यन आरम्भ किया |

डॉक्टर विक्रम साराभाई को इसरो का पिता क्यों कहा जाता हैं ? (Why Doctor Vikram Sarabhai is Called Father of ISRO ?)

नई सोच से उन्होंने भारतीय सरकार को इस बात का आश्वासन दिलाया कि भारत में अंतरिक्ष सेंटर होने से भारत के विकास को गति मिलेगी और हमारी आने वाली पीढ़ी अंतरिक्ष से जुड़ी बातों के बारे में आसानी से जान पाएगी जिसके लिए आवश्यक है कि भारत में एक स्पेस सेंटर खोला जाए. उनके विचारों से प्रभावित होकर भारतीय सरकार ने भारत में अंतरिक्ष सेंटर खोलने की अनुमति दी जिसकी वजह से डॉक्टर साराभाई को स्पेस सेंटर खोलने के लिए प्रेरणा मिली. स्पेस सेंटर की नीव रखने वाले डॉक्टर साराभाई को इसीलिए इसरो का पिता कहा जाता है.

डॉक्टर विक्रम साराभाई की विरासत (Dr Vikram Sarabhai Legacy)

  • भारत से 22 जुलाई 2019 को पहला लेंडर रोवर बनाया गया और उसे चांद की ओर पहुंचाया गया, जो चांद पर खोज करने में सक्षम होता, इस रोवर का नाम विक्रम लैंडर रखा गया. विक्रम साराभाई को सम्मान देते हुए इसरो के जनक के नाम पर ही लेंडर का नामकरण किया गया.
  • तिरुवनंतपुरम में लांच होने वाले वाहन विकास के लिए विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर जो इसरो के लिए प्रमुख सुविधाएं उपलब्ध कराता है. इस सेंटर को भी विक्रम साराभाई के नाम से ही सम्मानित किया गया है.
  • भारतीय डाक विभाग द्वारा उनकी पहली पुण्यतिथि 30 दिसंबर 1972 पर उनकी याद में एक स्मारक डाक टिकट घर बनाया गया.
  • भारत में प्रत्येक वर्ष 12 अगस्त जो डॉक्टर साराभाई की जन्म तिथि है उस दिन को ‘अंतरिक्ष विज्ञान दिवस’ के रुप में मनाया जाता है

डॉक्टर विक्रम साराभाई की मिले अवॉर्ड्स एवं उपलब्धियां (Dr Vikram Sarabhai Award and Achievements)

डॉ सारा भाई की नई औऱ प्रवर्तक सोच के साथ-साथ दूरदर्शी होने के लिए उन्हें भारत सरकार से सबसे बड़े सम्मानीय पुरस्कारों से भी मान दिया गया है. जिसमें से एक पद्म भूषण जो उन्हें सन 1966 में दिया गया और दूसरा पद्म विभूषण जो उन्हें सन 1972 में उनके मरणोपरांत दिया गया. इसके अलावा वे शांति स्वरुप भटनागर पुरस्कार से सम्मानित भी किए जा चुके हैं. आज भी वे भारत के सबसे महान वैज्ञानिको में से एक माने जाते हैं.

रोचक तथ्य :

• इस महान वैज्ञानिक के सम्मान में तिरूवनंतपुरम में स्थापित थुम्बा इक्वेटोरियल रॉकेट लाँचिंग स्टेशन (Thumba Equatorial Rocket Launching Station) और सम्बध्द अंतरिक्ष संस्थाओं का नाम बदल कर विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केन्द्र (Vikram Sarabhai Space Centre) रख दिया गया
• उनके पिता अंबालाल साराभाई एक संपन्न उद्योगपति थे
• भारत में इंटरमीडिएट विज्ञान की परीक्षा उत्‍तीर्ण करने के बाद विक्रम साराभाई इंंग्‍लैंड चले गये और ‘केम्ब्रिज विश्वविद्यालय’ के सेंट जॉन कॉलेज में भर्ती हुए
• अहमदाबाद में ‘भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला’ की स्थापना में उन्होंने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी
• ‘भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन’ (Indian Space Research Organisation) की स्थापना विक्रम साराभाई की महान उपलब्धियों में एक थी
• इनको विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में सन 1966 में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था.
• विक्रम साराभाई को सन 1966 में पद्म भूषण एवम 1972 में पद्म विभूषण से नवाजा गया था|
• Thiruvananthapuram के Thumba स्थित पहला rocket launching station Dr. Homi Jahangir Bhabha और साराभाई के सहायता से स्थापित किया गया था |
• इनकी शादी एक प्रसिद्ध classical dancer मृणालिनी से हुआ और इनकी शादी में इनके कोई भी family member नहीं थे |

        विक्रम साराभाई ने कास्मिक किरणों के समय परिवर्तन पर अनुसंधान किया और निष्कर्ष किया कि मौसम विज्ञान परिणाम कास्मिक किरण के दैनिक परिवर्तन प्रेक्षण पर पूर्ण रुप से प्रभावित नहीं होगा। आगे, बताया कि अवशिष्ट परिवर्तन विस्तृत तथा विश्वव्यापी है तथा यह सौर क्रियाकलापों के परिवर्तन से संबंधित है। विक्रम साराभाई ने सौर तथा अंतरग्रहीय भौतिकी में अनुसंधान के नए क्षेत्रों के सुअवसरों की कल्पना की थी। वर्ष 1957-1958 को अंतर्राष्ट्रीय भू-भौतिकी वर्ष (IGW) के रुप में देखा जाता है।

        साराभाई द्वारा IGW के लिए भारतीय कार्यक्रम एक अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान रहा। 1957 में स्पुटनिक-1 के प्रमोचन ने उनको अंतरिक्ष विज्ञान के नये परिदृश्यों से अवगत कराया। तदनंतर, उनकी अध्यक्षता में अंतरिक्ष अनुसंधान हेतु भारतीय राष्ट्रीय समिति (INCOSPAR) का गठन किया गया। थुम्बा का विशेष नक्शा कि वह भू-चुबंकीय मध्यरेखा के निकट है को देखते हुए विक्रम साराभाई ने तिरुअनंतपुरम के पास अरबी तट पर स्थित एक मछुवाही गॉव थुम्बा में देश के प्रथम राकेट प्रमोचन स्टेशन, थुम्बा भू-मध्य रेखीय राकेट प्रमोचन स्टेशन (TERLS) की स्थापना का चयन किया।

        इस साहस में, उनको होमी भाभा जो उस समय परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष थे से सक्रिय सहयोग मिला था। नवंबर 21, 1963 को सोडियम वाष्प नीतभार के साथ प्रथम राकेट का प्रमोचन किया गया। संयुक्त राष्ट्र महा सभा ने 1965 में, TERLS को एक अंतर्राष्ट्रीय सुविधा के रुप में मान्यता दी।

म्रुत्यु :

        भारत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों के जनक इस महान वैज्ञानिक की 30 दिसंबर 1971 को मृत्यु हो गई, किन्तु उनके बताए रास्तों पर चलते हुए भारतीय वैज्ञानिक 1975 ई. में स्वदेश में निर्मित प्रथम उपग्रह ‘आर्यभट्ट’ को अंतरिक्ष में भेजने में कामयाब रहे | अंतरिक्ष उपग्रहों के कारण ही ग्रामीण क्षेत्रों में टेलीविजन प्रसारण द्वारा शिक्षा, कृषि एवं ग्रामीण विकास में मदद मिल रही है तथा मौसम पूर्वानुमान से देश के गरीब किसानों को लाभ हो रहा है | डॉ. साराभाई के व्यक्तित्व का सर्वाधिक उल्लेखनीय पहलू उनकी रुचि की सीमा और विस्तार तथा ऐसे तौर-तरीके थे, जिनके बल पर वे अपने विचारों को संस्थाओं में परिवर्तित करने में कामयाब हुए |

        उन्हें सृजनशील वैज्ञानिक के अतिरिक्त यदि सफल और दूरदर्शी उद्योगपति, उच्च कोटि का प्रवर्तक, महान संस्था निर्माता, शिक्षाविद, कला मर्मज्ञ, अग्रणी प्रबंध आचार्य जैसे विशेषणों से सुशोभित किया जाए तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी | वे आज सशरीर हमारे बीच भले ही न हों, परंतु वस्त्र उद्योग, औषधि निर्माण, परमाणु ऊर्जा, भौतिक विज्ञान इत्यादि के क्षेत्र में उनके योगदान को भारत कभी नहीं भुला सकता | डॉ. साराभाई का जीवन विश्व भर के युवा-वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा का अनमोल स्रोत है |