आज़ाद हिंद फौज

आज़ाद हिंद फौज

Azad Hind Fauj में करीब 85000 सैनिक शामिल थे. इसमें एक महिला यूनिट भी थी, जिसकी कैप्टन लक्ष्मी स्वामीनाथन थी. इस फौज में बर्मा और मलाया में स्थित भारतीय स्वयंसेवक भी भर्ती किए गए.

सुभाष चंद्र बोस देश के उन महानायकों में से एक हैं और हमेशा रहेंगे, जिन्होंने आजादी की लड़ाई के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया. सुभाष चंद्र बोस के संघर्षों और देश सेवा के जज्बे के कारण ही महात्मा गांधी ने उन्हें देशभक्तों का देशभक्त कहा था. महानायक सुभाष चंद्र बोस को ‘आजादी का सिपाही’ के रूप में देखा जाता है साथ ही उनके जीवन के वीरता के किस्सों के साथ याद किया जाता है

भारत का सबसे श्रद्धेय स्वतंत्रता सेनानी माने जाने वाले सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था. उन्होंने आजाद हिंद फौज के नाम से पहला भारतीय सशस्त्र बल बनाया था. उनके प्रसिद्ध नारे ‘तुम मुझे खून दो, मैं तूम्हें आजादी दूंगा’ ने स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे उन तमाम भारतीयों के दिल में देशभक्ति पैदा कर दी थी. आज भी ये शब्द भारतीयों को प्रेरणा देते हैं.

कौन थे सुभाष चंद्र बोस?

सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था. बोस असाधारण रूप से प्रतिभाशाली थे. उन्होंने 1918 में प्रथम श्रेणी स्कोर के साथ दर्शनशास्त्र में बीए पूरा किया. बोस 1920 और 1930 के दशक के अंत में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के युवा, कट्टरपंथी विंग के नेता बन गए. भगवद् गीता सुभाष चंद्र बोस के लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्रोत थी.

सुभाष चंद्र बोस के पिता चाहते थे कि सुभाष आईसीएस बनें. उन्होंने अपने पिता की आईसीएस बनने की इच्छा पूरी की. 1920 की आईसीएस परीक्षा में उन्होंने चौथा स्थान पाया, मगर सुभाष का मन अंग्रेजों के अधीन काम करने का नहीं था. 22 अप्रैल 1921 को उन्होंने इस पद से त्यागपत्र दे दिया.

ऐसे बनी आजाद हिंद फौज

दूसरे विश्व युद्ध की शुरुआत में सुभाष चंद्र बोस ने सोवियत संघ, नाजी जर्मनी और इंपीरियल जापान सहित कई देशों की यात्रा की थी. कहा जाता है कि सुभाष चंद्र बोस के इन यात्राओं का मकसद बाकी देशों के साथ आपसी गठबंधन को मजबूत करना था और साथ ही भारत में ब्रिटिश सरकार के राज पर हमला करना था.

कहा जाता है कि 1921-1941 की अवधि में पूर्ण स्वतंत्रता के लिए अपने रुख के कारण नेताजी सुभाष चंद्र बोस को विभिन्न जेलों में 11 बार जेल की सजा हुई. उन्हें सबसे पहले 16 जुलाई 1921 को 6 महीने के कारावास की सजा दी गई. 1941 में एक मुकदमे के सिलसिले में उन्हें कलकत्ता की अदालत में पेश होना था, लेकिन वे किसी तरह अपना घर छोड़कर जर्मनी चले गए. नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने जर्मनी पहुंचकर वहां के चांसलर हिटलर से मुलाकात की.

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान वर्ष 1942 में भारत को अंग्रेजों के कब्जे से स्वतंत्र कराने के लिये आजाद हिन्द फौज या इंडियन नेशनल आर्मी (INA) नामक सशस्त्र सेना का संगठन किया गया. इस फौज का गठन जापान में हुआ था. इसकी स्थापना भारत के एक क्रान्तिकारी नेता रासबिहारी बोस ने टोक्यो (जापान) में की थी. 28 से 30 मार्च तक उन्हें एक सम्मेलन में आजाद हिन्द फौज के गठन को लेकर विचार प्रस्तुत करने के लिए बुलाया गया था.

85000 सैनिकों की आजाद हिंद फौज

बाताया जाता है कि आजाद हिंद फौज के बनने में जापान ने बहुत सहयोग किया था. आजाद हिंद फौज में करीब 85000 सैनिक शामिल थे. इसमें एक महिला यूनिट भी थी जिसकी कैप्टन लक्ष्मी स्वामीनाथन थी.

पहले इस फौज में वे लोग शामिल किए गए, जो जापान की ओर से बंदी बना लिए गए थे. बाद में इस फौज में बर्मा और मलाया में स्थित भारतीय स्वयंसेवक भी भर्ती किए गए. साथ ही इसमें देश के बाहर रह रहे लोग भी इस सेना में शामिल हो गए

आजाद हिंद फौज के लोगों 1944 को 19 मार्च के दिन पहली बार झंडा फहराया था. राष्ट्रीय ध्वज फहराने वाले लोगों में कर्नल शौकत मलिक, कुछ मणिपुरी और आजाद हिंद के लोग शामिल थे.

आजाद हिन्द सरकार का गठन

21 अक्टूबर 1943 को सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिन्द फौज के सर्वोच्च सेनापति की हैसियत से स्वतन्त्र भारत की अस्थायी सरकार बनाई. जिसे जर्मनी, जापान, फिलीपीन्स, कोरिया, चीन, इटली, मान्चुको और आयरलैंड ने मान्यता दे दी. आजाद हिन्द सरकार की आजाद हिंद फौज ने ने बर्मा की सीमा पर अंग्रेजों के खिलाफ जोरदार लड़ाई लड़ी थी.

कैसी थी सरकार?

इस सरकार में सुभाष चंद्र बोस प्रधानमंत्री बने और साथ में युद्ध और विदेश मंत्री भी थे. कई रिपोर्ट्स में बताया गया है कि नेताजी ही सरकार में राष्ट्रपति और सेनाध्यक्ष भी थे. इसके अलावा इस सरकार में तीन और मंत्री थे. साथ ही एक 16 सदस्यीय मंत्रि स्तरीय समिति भी बनाई गई थी. वहीं, कैप्टेन श्रीमती लक्ष्मी को महिला संगठन मंत्री, एसए अय्यर को प्रचार और प्रसारण मंत्री, लै. कर्नल एसी चटर्जी को वित्त मंत्री बनाया गया था.