जानिए 14 जनवरी की महत्वपूर्ण एतिहासिक घटनाएं – 14 January History in Hindi

जानिए 14 जनवरी की महत्वपूर्ण एतिहासिक घटनाएं – 14 January History in Hindi

14 जनवरी का इतिहास (14 January History) बहुत ही है खास! तभी तो किया गया इतिहास के किताबो में दर्ज़. तो आज़ उसी इतिहास के किताबो की पन्नो को खोलेंगे जिसमे 14 जनवरी की इतिहास , प्रमुख घटनाएं उल्लेखित है. यदि आप सामान्य ज्ञान की शक्ति बढ़ाना चाहते है तो आप सभी प्रत्येक दिन की हुई घटनाओं को पढ़िए. यकीं मानिये आपका समान्य ज्ञान (General knowledge) पर पकड़ बन जायेगी. 14 जनवरी वर्ष की दिन संख्या 14वां है, अर्थात् वर्ष का दुसरा सप्ताह.

14 जनवरी को हुई प्रसिद्ध व्यक्तियों का जन्म – Famous persons born on January 14

  • 1551 – अबुल फ़ज़ल , मुग़ल काल में अकबर के नवरत्नों में से एक.
  • 1804 – जॉन पार्क , मशहूर संगीतकार.
  • 1886 – मंगूराम , सुप्रसिद्ध समाज सुधारक.
  • 1896 – सी. डी. देशमुख , ब्रिटिश शासन के अधीन आई.सी.एस. अधिकारी और स्वतंत्रता के बाद भारत के तीसरे वित्त मंत्री.
  • 1905 – दुर्गा खोटे , हिन्दी व मराठी फ़िल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री.
  • 1918 – सुधाताई जोशी , पुर्तग़ाली साम्राज्यवादियों से गोवा की मुक्ति के स्वतंत्रता संग्राम की प्रमुख नेता थीं.
  • 1921 – बिन्देश्वरी दुबे , भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ तथा बिहार के मुख्यमंत्री.
  • 1926 – महाश्वेता देवी , भारत की प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और लेखिका.
  • 1942 – योगेश कुमार सभरवाल , भारत के सर्वोच्च न्यायालय के 36वें भूतपूर्व मुख्य न्यायाधीश.
  • 1951 – ओ. पन्नीरसेल्वम , भारतीय राजनीतिज्ञ, जो तमिलनाडु के भूतपूर्व छठे मुख्यमंत्री रहे हैं.
  • 1967 – अमेरिकी अभिनेत्री एमिली वॉटसन का जन्म हुआ.
  • 1977 – नारायण कार्तिकेयन , भारत के एकमात्र फ़ॉरमूला वन चालक.

14 जनवरी को हुई प्रसिद्ध व्यक्तियों का निधन – Famous persons death on January 14

  • 1742- एडमंड हैली , एक सुप्रसिद्घ खगोलशास्त्री.
  • 2017 – सुरजीत सिंह बरनाला , पंजाब के राजनीतिक दल शिरोमणि अकाली दल के राजनीतिज्ञ तथा भूतपूर्व मुख्यमंत्री थे.

14 जनवरी को दिवस महोत्सव – Events on January 14

  • अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह दिवस (10 दिवसीय)
  • राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह (11 जनवरी – 17 जनवरी)
  • मकर संक्रांति

14 जनवरी की महत्त्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाएं – 14 January History in Hindi

  • 1301 – Arpad राजवंश, जिसने 9 वीं शताब्दी के अंत में हंगरी पर शासन किया था, राजा एंड्रयू तृतीय की मृत्यु के साथ समाप्त हुआ.
  • 1514 – पोप लियो एक्स ने दासता के विरुद्ध आदेश पारित किया.
  • 1641 – यूनाइटेड ईस्ट इंडिया कंपनी ने मलक्का शहर पर विजय प्राप्त की थी.
  • 1659 – एलवास के युद्ध में पुर्तग़ाल ने स्पेन को पराजित किया था.
  • 1758 – इंग्लैंड के सम्राट के एक अधिकार पत्र के तहत ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में कंपनी या सम्राट के खिलाफ किसी भी युद्ध में लूटे गये धन एवं सम्पत्ति को रखने का अधिकार मिला.
  • 1758 – ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में लड़ाई में जीती हुई संपत्ति अपने पास रखने का अधिकार इंग्लैंड नरेश ने दिया.
  • 1760 – फ्रांसीसी जनरल लेली ने पांडिचेरी अंग्रेज़ों के हवाले कर दिया.
  • 1761 – भारत में मराठा शासकों और अहमदशाह दुर्रानी के बीच पानीपत का तीसरा युद्ध हुआ.
  • 1784 – अमरीका ने ब्रिटेन के साथ शांति संधि की पुष्टि किया.
  • 1809 – इंग्लैंड और स्पेन ने ‘नेपोलियन बोनापार्ट’ के ख़िलाफ़ गठबंधन किया था.
  • 1912 – रेमंड पोंकारे फ्रांस के प्रधानमंत्री बने.
  • 1918 – फ्रांस के पूर्व प्रधानमंत्री जोसेफ कैलाक्स को देशद्रोह के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया गया था.
  • 1954 – जगदगुरु कृपालु महाराज ने 7 दिनों तक 500 हिन्दू विद्वानों के समक्ष भाषण दिया था. उन्हें पाँचवाँ जगदगुरु चुना गया.
  • 1966 – भारत के दक्षिणी राज्य मद्रास का नाम बदलकर तमिलनाडु किया गया था.
  • 1974 – विश्व फुटबाल लीग की स्थापना किया गया.
  • 1975 – सोवियत संघ ने अमेरिका के साथ व्यापार समझौते को समाप्त किया.
  • 1982 – श्रीमती इंदिरा गाँधी ने 20सूत्री कार्यक्रम की घोषणा की थी.
  • 1985 – हुन सेन कंबोडिया के प्रधानमंत्री निर्वाचित हुए.
  • 1989 – इलाहबाद में बारह वर्ष बाद कुम्भ का मेला प्रारम्भ हुआ.
  • 2000 – कम्प्यूटर बादशाह बिल गेट्स ने स्टीव वाल्मर को विश्व की सबसे बड़ी कम्प्यूटर साफ़्टवेयर कम्पनी सौंपी.
  • 2002 – भारत के रक्षामंत्री जार्ज फर्नांडीज़ ने कहा था कि आतंकवाद की समाप्ति के बाद ही सेना सीमा से हटेगी.
  • 2007 – नेपाल में अंतरिम संविधान को मंजूरी मिली.
  • 2017- बिहार के पटना में गंगा नदी में नाव डूबने से कम से कम 24 लोगों की मृत्यु हुई थी.
  • 2020 – केरल सरकार ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की. केरल नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाने वाला पहला राज्य बना था.